भाजपा से निकाले गए मंतु, अब रमन पर निशाना

Antagarh tape case, Manturam Pawar, BJP, Removed from party, realtimes,

अंतागढ़ कांड़ में कांग्रेस है पीडि़त पक्ष
विपक्षी दलों पर भारी पड़ रहा है साढे़ सात

रायपुर() बहुचर्चित अंतागढ़ टेप कांड़ ()के केंद्र बिंदु पूर्व विधायक मंतुराम पवार ()को भाजपा ()ने पार्टी से बाहर कर दिया है। शनिवार 7 तारीख को जब उन्होंने धारा 164 के तहत कलमबंद बयान दर्ज करवाया था,तभी से माना जा रहा था कि मंतुराम का पार्टी निकाला तय है,लेकिन पार्टी ने पूरे तीन दिन बाद यह कदम उठाया। दूसरी ओर पार्टी से बाहर होने के फौरन बाद मंतुराम ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह पर निशाना साधा है,सवाल उठाया है कि उनके खिलाफ अनुशासनहीनता के आरोप में कार्यवाही क्यों नहीं हो रही है।

पांच साल बाद बोला सच या झूठ

मंतुराम ने पूरे पांच साल बाद अपना बयान बदला है। इस शनिवार को रायपुर में मजिस्टेट के समक्ष जो बयान दिया है उसमें जुबान पूरी तरह उलटी हुई है। अभी का बोला सच माना जाएगा या पहले वाला झूठ सही होगा इसका फैसला जांच एजेंसिया और न्यायालय करेगा,लेकिन खास बात ये है कि इस पूरे मामले में दो पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह व अजीत जोगी सपरिवार निशाने पर आ गए हैं।

कांग्रेस है पीडि़त पक्ष

राज्य की सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस अंतागढ़ टेप कांड़ का पीड़ित पक्ष है। 2014 में जब भूपेश बघेल के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद हुए पहले चुनाव में कांग्रेस की जमकर किरकिरी इस चुनाव ने करवाई थी,तब कांग्रेस प्रत्याशी रहे मंतुराम ने नामांकन वापसी के बाद मैदान छोड़कर कांग्रेस को चुनाव मैदान से बाहर कर दिया था। इसके बाद जब अंतागढ़ से जुड़े टेप सामने आए तो पता लगा कि साढ़े सात करोड़ रूपए की डील करके मैदान छुड़वाया गया। मंतुराम ने पांच साल बाद यही बात कानूनी रूप से उगली है। तब से प्रदेश की सियासत में डॉ.रमन सिंह निशाने पर आ गए हैं, उनके साथ अजीत जोगी अमित जोगी, भाजपा सरकार के पूर्व पीडब्लुडी मंत्री राजेश मूनत के खिलाफ मामले का शिकंजा कस सकता है। इसी केस के चक्कर में जोगी परिवार कांग्रेस से बाहर हुआ है, साथ ही यह मामला भाजपा के लिए मुसीबत बनता जा रहा है।

कांग्रेस ने कहा – सच बोलने वाली के लिए भाजपा में जगह नहीं

मंतूराम पवार के भाजपा से निष्कासन के समाचारों पर कांग्रेसंचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है की मंतूराम जब तक भाजपा और भाजपा की बी टीम के कहने से काम करते रहे तब तक रमन सिंह और धर्म लाल कौशिक तक ने उनका स्वागत किया अभिनंदन किया। अंतागढ़ मामले में सच बोलते ही मंतूराम को भाजपा ने निकाल बाहर किया। इससे स्पष्ट है कि भाजपा में सच बोलने वालों की कोई जगह नहीं है।

मंतु के कांग्रेस प्रवेश का आवेदन अभी नहीं आया

मंतूराम के कांग्रेस प्रवेश के सवालों पर कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि मंतूराम पवार हमारे संपर्क में नहीं है । अभी मंतूराम पवार का कांग्रेस प्रवेश के लिए कोई आवेदन कांग्रेस को नहीं मिला है। कांग्रेस प्रवेश के आवेदनों पर गुण दोष के आधार पर नेतृत्व द्वारा विचार किया जाता है।

अब जमानत के लिए मची खलबली- विकास तिवारी

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि अंतागढ़ में जिस प्रकार से पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह, पूर्व पीडब्लूडी मंत्री राजेश मूणत, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, अमित जोगी ने सात करोड़ देकर लोकतंत्र की हत्या की और अब भाजपा के कार्यकारिणी सदस्य मंगतूराम ने कोर्ट में धारा 164 के तहत बयान दर्ज करवाया तो भाजपा और उनके बी-टीम में खलबली मच गयी और अग्रिम जमानत के लिये न्यायालय में दौड़ लगा रहे है। तात्कालीन  कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल पर जब जमीन आंबटन मामले में रमन सरकार ने आरोप लगाया तो उन्होंने बिना देरी किये दस्तावेजो सहित ईओडब्लू ऑफिस परिवार सहित पहुंचकर अपने और परिवारजनों पर लगे झूठे एवं बेबुनियाद आरोपो का बिन्दुवार जवाब भी प्रस्तुत किया था। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनके परिजनों को झूठे जमीन आंबटन मामले में फसाने वाले षडयंत्रकारी उस समय भूपेश बघेल को गिरफ्तार करने की हिम्मत नहीं जुटा पाये थे क्योंकि वो पाक साफ और बेदाग थे।

तिवारी ने कहा है कि  पुलिस जब पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के दामाद पुनित गुप्ता, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, अमित जोगी से वाइस सैंपल मांग रही है तो वे पुलिस का सहयोग नहीं कर रहे है और न्यायालय की शरण में अग्रिम जमानत के लिये गुहार लगा रहे है। स्पष्ट है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिस प्रकार बिना डरे कानून का सामना किया और ईओडब्लू ऑफिस में प्रस्तुत भी हुवे, उनके द्वारा कभी भी न्यायालय में अग्रिम जमानत के लिये गुहार भी नहीं लगाया गया था तो पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के दामाद पुनित गुप्ता, अजित जोगी, अमित जोगी और राजेश मूणत क्यों भयभीत है कुछ ने अग्रिम जमानत ली हुई है और कुछ अग्रिम जमानत के लिये आवेदन प्रस्तुत किये हुये है। क्यों नहीं वह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की तरह निडर होकर कानून का सामना नहीं कर पा रहे और न ही अपना वाईस सैंपल दे रहे है। इससे छत्तीसगढ़ की जनता समझ चुकी है कि भाजपा और उनकी बी-टीम ने ही अंतागढ़ चुनाव में लोकतंत्र की खरीद-फरोख्त करके छत्तीसगढ़ को पूरे विश्वपटल में शर्मशार किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *