लेमरू हाथी अभ्यारण बनाया जाना भूपेश बघेल का साहसिक निर्णय – डॉ. महंत

प्रभावित क्षेत्रों के बसाहट रहेंगे यथावत
वनवासियों को वनाधिकार और रोजगार से जोड़े रखेंगे
विशेषज्ञों की टीम बनाएगी प्रभावी कार्ययोजना

रायपुर(realtimes) कोरबा ()जिला सहित पड़ोसी जिलों को मिलाकर बनने वाले लेमरू एलीफेंट रिजर्व() को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की केबिनेट में मिली मंंजूरी पर छग विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत (Dr Charandas Mahant)ने मुख्यमंत्री सहित मंत्रीमंडल के निर्णय को साहसिक कदम बताया है। प्रभावित क्षेत्रों के बसाहट यथावत रहेंगे। साथ ही वनवासियों को रोजगार से जोडऩे का प्रभावी कार्ययोजना के अलावा पर्यावरण, वन्य जीव संरक्षण, वनवासियों सहित प्रभावित क्षेत्रों को बिना कोई नुकसान पहुंचाए लेमरू हाथी रिजर्व का निर्माण कराया जाएगा। जो देश में एक मॉडल बनेगा।

छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की कैबिनेट ने मंगलवार को हाथियों की सुरक्षा व संवर्धन हेतु वन्य जीवों का प्राकृतिक निवास संरक्षित करने के लिए लंबे समय से बहुप्रतीक्षित मांग को पूरा करते हुए हाथियों के आतंक से प्रभावित क्षेत्रों की आबादी को बचाने के लिए लेमरू हाथी रिजर्व बनाने का जो निर्णय लिया है वह वन्य जीव को संरक्षित करने व प्रभावित क्षेत्र के लोगों को हाथियों के आतंक से राहत देने साहसिक कदम है। डॉ. महंत ने कहा कि 73 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ने घोषणा की थी जिसे मंगलवार को कैबिनेट में पास कर दिया है। अब छत्तीसगढ़ में लेमरू हाथी रिजर्व का गठन होगा। जो देश में अपने तरह का पहला परियोजना होगा। लेमरू हाथी रिजर्व के निर्माण से जंगली हाथियों  द्वारा की जा रही जान-माल व हाथी-मानव द्वंद को रोकने कारगर साबित होगी। साथ ही साथ वन्य जीवों के संरक्षण और जैव विविधता के संवर्धन का दायरा बढ़ेगा। डॉ. महंत ने बताया कि लेमरू हाथी रिजर्व का निर्माण स्पेशल हाइपावर टेक्निकल कमेटी द्वारा प्रदत्त सूचनाओं और सुझाव के आधार पर किया जाएगा। कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर अक्टूबर 2007 को भारत सरकार ने 1995.48 वर्ग किलोमीटर वन्य क्षेत्र में लेमरू हाथी निर्माण की अनुमति दी थी। जो जिले के कोरबा, कटघोरा और धरमजगढ़ वनमंडल लेमरू हाथी रिजर्व के अंतर्गत शामिल होगा। डॉ. महंत ने कहा कि जिले में लेमरू एलीफेंट रिजर्व के निर्माण से मानव और हाथी के बीच सौहाद्रपूर्ण सहनिवास इस क्षेत्र में पर्यटन की संभावनाओं को बढ़ावा मिलेगा। डॉ. महंत ने स्पष्ट करते हुए कहा कि हाथी प्रभावित क्षेत्रों में निवासरत 142 गांवों के लोगों को न तो कहीं पुनर्वास किया जाएगा और न ही किसी प्रकार का नई बसाहट तैयार होगी। वनवासियों को उनके वनों के अधिकार से जोड़े रखकर योजना तैयार की गई है। डॉ. महंत ने बताया कि 2012 मेें तात्कालीन केन्द्रीच वन एवं पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने हाथी अभ्यारण बनाने की स्वीकृति दी थी। लेकिन इस क्षेत्र में उत्खनन करने की योजना बड़े उद्योगपतियों ने बना रखी थी जिसका डटकर वे विरोध करते रहे। अब जाकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, वन मंत्री मो.अकबर सहित मंत्रीमंडल के सदस्यों ने साहसिक निर्णय लेकर लेमरू हाथी अभ्यारण बनाने केबिनेट से मंजूरी दी है। जिसका क्षेत्रवासी स्वागत करते हैं। 

राहुल गांधी के दौरे के बाद बनी थी प्रभावी कार्ययोजना

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने 400 किलोमीटर से अधिक सडक़ मार्ग तय करते हुए रामपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम कुदमुरा पहुंचकर हाथियों से प्रभावित ग्रामीणों के  साथ मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के तात्कालीन अध्यक्ष भूपेश बघेल व डॉ. चरणदास महंत के साथ चौपाल लगाकर हाथियों के हमले को रोकने और प्रभावितों को राहत देने को लेकर घंटो ग्रामीणों और विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श किया था। राहुल गांधी के दौरे के बाद भी लेमरू हाथी अभ्यारण बनाने की दिशा में कांग्रेस नेताओं ने प्रयासों में तेजी बनाई रखी। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद विधानभा अध्यक्ष  डॉ. चरणदास महंत व कोरबा सांसद श्रीमती ज्योत्सना चरणदास महंत ने इस पर अपना दबाव निरंतर बनाए रखा। जिसके परिनीति यह रही कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने हाथी अभ्यारण बनाने को मंजूरी दी है।

पहले पेंड्रा जिला अब लेमरू हाथी अभ्यारण और आगे स्वास्थ्य, शिक्षा पर रहेगा जोर: ज्योत्सना महंत

कोरबा लोकसभा क्षेत्र के सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने कहा कि संसदीय क्षेत्र की जनता को किए वायदे को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से निरंतर मुलाकात और उनके निराकरण के प्रयासों में वे कभी कमी नहीं करती रही हैं। तीन माह के कार्यकाल में पेंड्रा, गौरेला और मरवाही को मिलाकर जिला बनाने का आग्रह क्षेत्रवासियों के साथ मुख्यमंत्री से किया गया था। जिसे पूरा किया गया। उसके बाद रामपुर क्षेत्र के चुनावी दौरे में भी हाथी अभ्यारण बनाने की बात को दोहराते रही हैं। जिसका नतीजा रहा कि मुख्यमंत्री की केबिनेट ने लेमरू हाथी रिजर्व की घोषणा की है। जिसके लिए पूरे मंत्रीमंडल के सदस्यों का आभार व्यक्त करती हैं। श्रीमती महंत ने कहा कि पेंड्रा जिला, हाथी अभ्यारण के बाद संसदीय क्षेत्र में स्वास्थ्य और शिक्षा को बेहतर बनाए जाने की दिशा में वे प्रयास कर रहीं हैं। जिस पर भी जल्द प्रभावी निर्णय सामने आएंगे। श्रीमती महंत ने कहा कि प्रथम सप्ताह में संसदीय क्षेत्र के जिलों में होने वाली बैठकों में सडक़ के अलावा स्वास्थ्य और शिक्षा के साथ-साथ स्थानीय रोजगार के अवसर कैसे मिले इस पर कार्ययोजना तैयार की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *