डॉ. दिनेश मिश्र इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में आमंत्रित

andhashraddha nirmoolan samiti, President, Dr. Dinesh Mishra, Lunar eclipse,

रायपुर(realtimes) वरिष्ठ नेत्र विशेषज्ञ एवं अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के अध्यक्ष डॉ. दिनेश मिश्र को भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा आयोजित 5वें इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में आमंत्रित किया गया है। यह भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 5 से 8 नवंबर 2019 को कोलकाता में आयोजित होगा।

डॉ मिश्र, साइंस फेस्टिवल में वैज्ञानिक दृष्टिकोण, अंधविश्वास एवं, जनस्वास्थ्य विषय पर आलेख पढ़ेंगे।

“भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 2019 दरअसल विज्ञान को प्रयोगशालाओं से बाहर लाते हुए विद्यार्थियों के बीच विज्ञान के प्रति प्यार और जुनून को प्रोत्साहित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा इस साल के महोत्सव की थीम है ‘रिज़न इंडिया – रिसर्च, इनोवेशन एंड साइंस एम्पावरिंग द नेशन यह दुनिया में सबसे बड़ा विज्ञान महोत्सव है और इसमें युवाओं को प्रेरित और प्रोत्साहित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है ताकि वे असली विज्ञान को अपने सामने गतिशील देख सकें। असली विज्ञान को कक्षा के माहौल में नहीं सीखा जा सकता है।

डॉ. दिनेश मिश्र 1995 से समाज में  वैज्ञानिक दृष्टिकोण के विकास एवं सामाजिक कुरीतियों ,के निर्मूलन केलिए जनजागरण अभियान संचालित कर रहे हैैं,छत्तीसगढ़ के साथ  मध्यप्रदेश असम, राजस्थान,उत्तरप्रदेश ओडिसा, आँध्रप्रदेश कर्णाटक,बिहार झारखण्ड महाराष्ट् के अनेक स्थानों में आयोजन,वैज्ञानिक जागरूकता के विकास के लिए कार्य, ,केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार परिषद एवम प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा आयोजित कार्यशालओ  में भागीदारी, व्याख्यान, कथित चमत्कारों के वैज्ञानिक व्याख्या (scientific explaination ऑफ socalled  miracle s) की कार्यशालाओ में मास्टर रिसोर्स पर्सन तथा विषय विशेषज्ञ के रूप में देश भर में आमंत्रित किया जाता है जादू टोने  के संदेह में महिला प्रताड़ना के विरोध में कोई नारी डायन (टोनही) नहीं अभियान,ग्रामीण अंचल के दौरे,पीड़ितों से मुलाकात,उपचार पुनर्वास का कार्य कर रहे हैं। डॉ.मिश्र को केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार द्वारा देश में विज्ञान लोकप्रियकरण के लिये उल्लेखनीय कार्य करने के लिए 2008 में नेशनल एवार्ड तथा 2006 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य अलंकरण सम्मान,  तत्कालीन राष्ट्रपति महामहिम एपीजे कलाम द्वारा सम्मानित किया जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *